नासा इस दिन लॉन्च करेगा आर्टेमिस 1 मून मिशन, दो बार घूम चुका है पानी 2 असफल प्रयासों के बाद 27 सितंबर को आर्टेमिस 1 नासा चंद्रमा मिशन लॉन्च किया जाएगा

आर्टेमिस 1 मिशन: नासा ने दो असफल आर्टेमिस 1 लॉन्च मिशनों का प्रयास किया है। लेकिन इस बार नासा ने बैकअप के तौर पर 2 अक्टूबर की तारीख भी तय की है।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा एक बार फिर अपने बहुप्रतीक्षित चंद्र मिशन पर है (चंद्रमा मिशन) आर्टेमिस 1 मिशन के हिस्से के रूप में लॉन्च करने का प्रयास करने जा रहा है। नासा इसे 27 सितंबर को लॉन्च करेगा। इससे पहले नासा ने आर्टेमिस 1 मिशन को लॉन्च करने के दो असफल प्रयास किए हैं। लेकिन इस बार नासा (नासा) बैकअप के तौर पर 2 अक्टूबर की तारीख भी तय की गई है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी आर्टेमिस 1 27 सितंबर को रात 9 बजकर 7 मिनट पर अपने मिशन को लॉन्च करेगी।

नासा ने स्पेस लॉन्च सिस्टम (एसएलएस) रॉकेट और ओरियन अंतरिक्ष यान के पहले लॉन्च का क्रायोजेनिक परीक्षण करने की भी योजना बनाई है। यह काम 21 सितंबर से पहले करना है। इन नई तारीखों को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने काफी सोच-विचार के बाद चुना है। क्रायोजेनिक परीक्षण करने के लिए अधिक समय देने का भी इसका लाभ है।

बैकअप लॉन्च के लिए भी तैयार

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा और निजी कंपनी स्पेसएक्स 2 अक्टूबर की बैकअप लॉन्च तारीख की समीक्षा कर सकती है। क्योंकि 3 अक्टूबर को नासा और कंपनी मिलकर क्रू-5 मिशन को लॉन्च करने जा रहे हैं। इस यान को क्रू-5 मिशन के तहत इंटरनेशनल स्पेस सेंटर भेजा जाना है। अंतरिक्ष एजेंसी नासा और एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स मिशन के प्री-लॉन्च की समीक्षा कर रही है।

दूसरा लॉन्च रद्द कर दिया गया था

इससे पहले नासा दो बार आर्टेमिस 1 मिशन को लॉन्च करने की कोशिश कर चुका है। लेकिन दोनों बार यह विफल रहा है। हाइड्रोजन रिसाव के कारण दूसरा प्रक्षेपण रद्द करना पड़ा। इसके बाद नासा के इंजीनियरों की एक टीम ने इसकी मरम्मत शुरू की। उन्होंने इसे ठीक किया और हाइड्रोजन ईंधन फीड लाइन को जोड़ा। जिसके बाद अब इसका परीक्षण किया जाएगा।

मंजूरी नहीं मिली तो मिशन को टाला जा सकता है

इस परीक्षण के दौरान, प्रक्षेपण नियंत्रक एसएलएस के अंतरिम क्रायोजेनिक प्रणोदन चरण (आईसीपीएस) को तरल हाइड्रोजन और ऑक्सीजन से भर देंगे। इसके बाद इंजीनियरों की टीम जांच करेगी कि कहीं दोबारा हाइड्रोजन का रिसाव तो नहीं हो रहा है. इसके अलावा प्रोपेलेंट लोडिंग की प्रक्रिया की भी जांच की जाएगी। लेकिन नासा ने 27 सितंबर को आर्टेमिस 1 का प्रक्षेपण निर्धारित किया है। लेकिन अब नासा को फ्लाइट टर्मिनेशन सिस्टम को लेकर मंजूरी का इंतजार है। अगर यह मंजूरी नहीं दी जाती है, तो नासा एसएलएस और ओरियन अंतरिक्ष यान को वाहन विधानसभा भवन में स्थानांतरित कर देगा। ताकि इसकी मरम्मत और रखरखाव किया जा सके।

Source link

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.