मल्टीबैगर स्टॉक: इस आईटी स्टॉक में एक लाख रुपये का निवेश, कंपनी ने दिया पांच गुना बोनस, जानिए विशेषज्ञों की राय | मल्टीबैगर स्टॉक : इस आईटी स्टॉक में एक लाख रुपये का निवेश, कंपनी ने दिया पांच गुना बोनस, जानिए विशेषज्ञों की राय

पिछले 20 साल में यह आईटी कंपनी निवेशकों को 5 बार बोनस शेयर दे चुकी है। विप्रो ने आखिरी बार तीन साल पहले मार्च 2019 में 1:3 के अनुपात में बोनस शेयर जारी किए थे।

शेयर बाजार(शेयर बाजार)में मल्टीबैगर स्टॉक(मल्टीबैगर स्टॉक्स)निवेशक ढूंढ रहे हैं निवेशक मल्टीबैगर शेयरों में निवेश करना पसंद करते हैं। कई नए निवेशक यह सवाल पूछते हैं कि जब यह स्टॉक कई गुना ऊपर चला गया है तो इसके बारे में बात करने का कोई मतलब नहीं है। यह शेयर अपने अधिकतम स्तर पर रहने का अनुमान है। नए मल्टीबैगर बन रहे स्टॉक्स की तलाश की जाती है। इस सवाल पर विशेषज्ञों का कहना है कि पहले आप मल्टीबैगर शेयरों के बारे में जानें, उन्हें समझें और देखें कि आप उनसे क्या हासिल कर सकते हैं। यदि आप इस ज्ञान में से कोई भी नहीं लेते हैं, तो आप मल्टीबैगर खो देंगे। टाइटन और इंफोसिस हो या विप्रो… ऐसे सभी मल्टीबैगर्स से यह निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि अच्छे रिटर्न देने वाले शेयरों में निवेश करने के लिए धैर्य की आवश्यकता होती है।

विप्रो के बोनस शेयर

इस आईटी स्टॉक ने इस कैटेगरी में अपने निवेशकों को कई रिटर्न दिए हैं। भारतीय आईटी प्रमुख विप्रो उन कंपनियों में से एक है जिसने बोनस शेयर जारी करके अपने शेयरधारकों को लगातार दीर्घकालिक लाभ दिया है। कंपनी 2004 से अब तक पांच बार बोनस की घोषणा कर चुकी है। बोनस शेयरों की ताकत और कंपनी के रिटर्न का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि ये शेयर करीब 20 साल में वापस बढ़कर रु. 1 लाख से लेकर करीब 2 करोड़ तक की कमाई की।

आपको कितना बोनस मिला?

पिछले 20 साल में यह आईटी कंपनी निवेशकों को 5 बार बोनस शेयर दे चुकी है। विप्रो ने आखिरी बार तीन साल पहले मार्च 2019 में 1:3 के अनुपात में बोनस शेयर जारी किए थे। मतलब अगर आपके पास 3 शेयर थे तो आपको विप्रो का शेयर बोनस मिलता है। विप्रो ने जून 2004 में 2:1, अगस्त 2005 में 1:1, जून 2010 में 2:3 और जून 2017 में 1:1 के अनुपात में बोनस शेयरों की पेशकश की।

आपने कितना कमाया?

आइए इसके रिटर्न को देखने के लिए विप्रो के शेयर के मूल्य इतिहास पर एक नजर डालते हैं… आईटी कंपनी विप्रो के शेयरों ने 30 अप्रैल 2004 को रुपये पर कारोबार किया। 57.92. मान लीजिए अगर आपने इस शेयर में एक लाख रुपये का निवेश किया होता तो आपको 1726 शेयर मिलते। यदि आप इस कंपनी के साथ रहे होते तो 5 बार बोनस शेयर प्राप्त करने के बाद आपके पास वर्तमान में कुल 46026 शेयर होते।

बीएसई पर विप्रो के शेयर 2 सितंबर 2022 को रु। 407.80 पर बंद हुआ। इस शेयर की कीमत 1.87 करोड़ रुपये होगी। फिलहाल विप्रो के शेयरों में मामूली गिरावट देखने को मिल रही है। कुछ दिन पहले यह शेयर रु. 500 का कारोबार हो रहा था। इस हिसाब से आपका मुआवजा 2 करोड़ से ज्यादा होगा।

विशेषज्ञों का कहना है कि अच्छी गुणवत्ता वाले स्टॉक को बनाए रखना होगा। अगर कंपनी के कारोबार में भरोसा है तो शॉर्ट टर्म के उतार-चढ़ाव से डरना नहीं चाहिए। कंपाउंडिंग से लंबी अवधि के निवेश को भी फायदा होता है। यह लाभांश, बोनस और अन्य लाभों के साथ है।

Source link

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.