सस्ते और छोटे घरों की डिमांड घटी, लोग चुन रहे हैं 1.5 करोड़ से ऊपर के फ्लैट सस्ते और छोटे घरों की मांग घटी, लोग पसंद कर रहे हैं 1.5 करोड़ से ज्यादा कीमत के फ्लैट

इस साल के पहले छह महीनों में महंगे फ्लैटों की बिक्री 25,680 यूनिट रही है। यह संख्या पूरे 2021 में दिल्ली-एनसीआर, एमएमआर, बेंगलुरु, पुणे, हैदराबाद, चेन्नई और कोलकाता जैसे सात प्रमुख शहरों में बेची गई 21,700 से अधिक इकाइयों की है।

एक तरफ देश में किफायती आवास (किफायती आवास) मांग में गिरावट देखी जा रही है, दूसरी ओर दिल्ली-एनसीआर का पैटर्न काफी अलग है। एक रिपोर्ट के मुताबिक एनसीआर में लग्जरी घरों की मांग में भारी इजाफा देखने को मिल रहा है। अगर हम एक साल की बिक्री को देखें, एनसीआरभारत में महंगे लग्जरी घरों की मांग लगातार बढ़ी है रिपोर्ट में कहा गया है कि साल की पहली छमाही में देश के सात प्रमुख शहरों में रु. 1.5 करोड़ रुपये से अधिक कीमत वाले मकानों या फ्लैटों की बिक्री बढ़कर 25,680 इकाई हो गई। यह रिपोर्ट रियल एस्टेट कंसल्टेंट एनारॉक ने दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि महंगे फ्लैटों की बिक्री के आंकड़े पिछले तीन साल की सालाना बिक्री से ज्यादा हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल की पहली छमाही में महंगे फ्लैटों की कुल बिक्री में मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन (एमएमआर) का हिस्सा 50 फीसदी से ज्यादा है। एनारॉक ने कहा कि लग्जरी या हाई-एंड हाउसिंग सेगमेंट ने इस साल अच्छा प्रदर्शन किया है और डेवलपर्स द्वारा दी जाने वाली छूट और विदेशी भारतीयों (एनआरआई) की मांग के कारण बिक्री में वृद्धि हुई है। आंकड़ों के मुताबिक इस साल के पहले छह महीनों में महंगे फ्लैटों की बिक्री 25,680 यूनिट रही। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (दिल्ली-एनसीआर), एमएमआर, बेंगलुरु, पुणे, हैदराबाद, चेन्नई और कोलकाता के सात प्रमुख शहरों में वर्ष 2021 के दौरान यह संख्या 21,700 इकाई से अधिक है।

महंगे घरों की मांग क्यों बढ़ी है?

वहीं, कोविड-19 महामारी से प्रभावित 2020 में महंगे फ्लैटों की बिक्री घटकर 8,470 इकाई रह गई, जो 2019 में 17,740 इकाई थी। आंकड़ों से पता चलता है कि 2022 की पहली छमाही में सात शहरों में 1.84 लाख इकाइयों की कुल बिक्री में लक्जरी घरों की हिस्सेदारी बढ़कर 14 प्रतिशत हो गई। साल 2019 में यह महज सात फीसदी थी। एनारॉक ने कहा है कि 2022 में आवासीय बिक्री पूर्व-महामारी के स्तर को पार कर जाएगी।

कोविड ने बदल दिया ट्रेंड

एनारोक के चेयरमैन अनुज पुरी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि लग्जरी घरों की बिक्री में आई तेजी की चार-पांच वजहें हैं। पहला यह कि इस साल कई लग्जरी हाउसिंग प्रोजेक्ट पूरे हो चुके हैं। रेडीमेड घरों की मांग बढ़ गई है, क्योंकि उपभोक्ता जल्द से जल्द नए घर में जाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान शेयर बाजार से पैसा कमाने वाले उच्च निवल मूल्य वाले व्यक्ति (HNI) अब अचल संपत्ति में निवेश कर रहे हैं। पुरी ने कहा, संयुक्त परिवारों ने महामारी के दौरान बड़े घरों की आवश्यकता को महसूस किया है और यह इस श्रेणी में बिक्री में वृद्धि का एक मुख्य कारण है। एनारॉक ने यह भी कहा कि महामारी की दूसरी लहर के बाद से घर की कीमतें बढ़ी हैं। कीमतें अभी भी वाजिब स्तर पर हैं। संभावित खरीदारों को लगता है कि दरें और बढ़ सकती हैं, इसलिए वे अभी खरीदारी कर रहे हैं।

Source link

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.